Sunday, December 27, 2015

मेरे बच्चो ......एक कविता

मेरे बच्चो ......एक कविता

मेरे बच्चो
कुछ न दे सका तुम्हे ऐसा
जिस पर गौरवान्वित हो सकुँ
ये उदासी, नीरसता , और एकाँकीपन
मेरे ही कारण है
तुम्हारी भावनायें और
संसार की भौतिक चीजों के प्रति आकर्षण
मेरे ही कारण है
मैने अब मान लिया है कि
सारे दोष मुझमे ही है
किन्तु तुम सब भी तो थे
मेरे साथ बड़े होते हुये
देखों अपना छोटा आँगन
सीमित जगह
जहाँ खेले कुदे सुरक्षित रहे
काँधो पर सेर करते करते
हवाई जहाज से आकाश छूँ रहे हो
पर यह सही है
मैरे बच्चो
कुछ न दे सका हूँ तुम्हे ऐसा
जिस पर तुम्हे गर्व हो
अब तुम खूद हासिल करो
अच्छे दोस्त
जो नाटक के पात्र न हो
पता लगाओं  ,बनाओं
उम्दा घर जो रेतं के घरोदों की मानिंद भुर भूरे न हो
मै मेरा घर छौटा आँगन और
मेरी भागम भाग भरी नौकरी की दुनियाँ
कुछ न कूछ तो देती रही है तुम्हे
पर वह कुछ नही जो
सब चाहते है
मेरे बच्चो अब तुम सीख लो ।

कमलेश कुमार दीवान
27/12/2015

1 comment:

  1. We know everything dad ..orshayad yeh behtar samjha PAYE..

    samay hi toh tha Jo Hume chahiye tha.
    naukri toh h par parivar par b dhyan Dena chahiye tha.
    hum apni zindagi mein aise galati na dohrayenge ..
    Jse b rahenge par apne maa pita ka dil na dukhayenge..
    soch samajh kar kam krenge or vichar banayenge..
    Iccha se Hume mile na mile par har cheez sweekarenge ..
    Ho sake toh Hume bhi ek mauka de de na..
    hum b santaan h yeh sochkar sun Lena..
    Is sansar mein kayi tarah Ki Maya h..
    par saccha sukh khushi khushi mafi Dekar k
    Har insaan ne paya h..
    Ho ske toh ek bar humari khushi k bare mein soch Lena..
    or na ho Pye toe phir yeah kavita phir se likh dena..
    hum phir b padhkar use sarahenge..a
    pne papa k likhe huye shabdon KO dohrayenge..
    hum b chahte yeh zindagi k bache huye pal sath rahena khushi khushi ..
    vrna yeh kavita hum apne ghar k agan mein gungunayenge..
    gehri bat toh yeah zindagi had moad par keh jati h..
    koi sunta h use ..
    or kabhi voh unsuni reh jati h..
    hum toh hamesha yahi chahte or chahte rahenge..
    humare pita or ma haste hue apni zindagi k pal bitayenge..
    voh hi humare zindagi ka sukh hoga ..jab akho mein bahut sari Khushi or koi GAM na hoga..

    ReplyDelete