यह ब्लॉग खोजें

गुरुवार, 17 जून 2021

जो तुम चलो तो

     "जो तुम चलो तो"

                कमलेश कुमार दीवान

जो तुम चलो तो दुनियां भी चलेगी ऐसे

जैसे आकाश मे चाँद सितारे से चलें 

जो तुम चलो तो .........

रुके हैं आज अँधेरें हर एक मंजिल पर 

उजाले कैसे दिखेगें किसी भी तंगदिल पर 

असर भी चुक रहें हैँ खुट रही हैं आशाएँ

ये जो विश्वास है वह भी तो इशारों से चले ।

जो तुम चलो तो ........

बहुत हुई हैं मिन्नते अब आरजू भी नहीं 

ये जो राहों की सदाएँ हैं उसी छोर से हैं 

अब हवाएँ नहीं होती हैं कभी तूफान के साथ 

कराह उठे हैं सागर भी सभी ओर से हैं 

ये कायनात ही सभी कुछ संभालती हैं यहाँ 

सभी इंतजाम कर सूरज भी सबेरे  से चले  ।

जो तुम चलो तो .........


कमलेश कुमार दीवान 

10/5/21 

शुक्रवार, 28 मई 2021

"हम आसमां से कहे" ....गजल

           " ह्म आसमां से कहे "

                                कमलेश कुमार दीवान

हम आसमाँ से कहे ,अपनी बदल ले तस्वीर 

दो चार सूरज हों और चाँद हो दस॑ बीस

फलक पे तारे हों जो चल सके इशारों से 

जमी पे पेड़ हों तो सब ही हों पहाड़ो पर

कोई तो पासवाँ से कहे अपनी बदल ले तकरीर 

एक आध अपनी बात हो और किताब से दस बीस ।

हम आसमाँ से .......

हम हवाओं से कहे जब भी चले  धीरे वहें

रोक ले बादलो को  , जब कहे तब ही बरसें 

धरा से चाहे कि वो ही रहे सटकर हमसे

नदी को बाँध ले भरमाये न इनसे सागर 

आसमां हम ही हों तब सब ही बदल देंगें तकदीर 

एक आध अपने ठाँव हों खिताब हों दस बीस ।

हम आसमां से .......


कमलेश कुमार दीवान 

15/5/21 

सोमवार, 3 मई 2021

कुछ बाते .........एक गीत

                 "कुछ बाते "        

                               कमलेश कुमार दीवान 

कुछ बाते जो नई नई सी 

अच्छी लगती हैं

यादों के अथाह सागर मे 

डूब डूब जाता है जब मन

होती है बरसात बहुत और 

भीग भीग जाता है जब तन

फिर आती है जब कुछ राते 

छुई मुई सी कुछ सौगाते

नई नई सी सच्ची लगती है 

कुछ बाते .......

कुछ बाते जो बहुत पुरानी 

कही कही अनकही शेष हैं 

वो भी एक कहानी सी हैं 

यादें रची‌‌‌- बसी बचपन की

लगती अब गुड़ ‌‌‌‌- धानी सी है 

भर भर जाता है जब मन 

फिर भाती अच्छी सी बातें

कई कई तो कच्ची सी लगती हैं

कुछ बाते जो नई नई सी 

अच्छी लगती हैं 

कुछ सौगातें जो नई नई सी 

सच्ची लगती हैं 

कमलेश कुमार दीवान 

30/8/20

 




बुधवार, 28 अप्रैल 2021

"जरा संभल के चलो" ...गजल

                          " जरा संभल के चलो "

                                                            कमलेश कुमार दीवान 

बहुत खामोश हैं लम्हे उदास सुबह और शाम

क्या होगी रात भी ऐसी ,जरा संभल के चलो 

हुई हैं बंदिशे आयत खुले दरीचे भी कहां होगें 

किसी से बात हो कैसे ,जरा संभल के चलो 

अब हवाये बहुत धीमे से चल रही है यहां

उसी के साथ है तूफांं , जरा संभल के चलो 

हम भी पेड़ो से गिरे सूखे पत्तो की तरह 

हमारे पास ही आतिश, जरा संभल के चलो

अपने जेहन मे भी इतनी जगह रखो 'दीवान'

किसी से घात भी हो तो, जरा संभल के चलो

कमलेश कुमार दीवान 

26/4/2021 

मंगलवार, 20 अप्रैल 2021

बहुत उदास है शामें......गजल

 


💐उदास है शामें💐
बहुत उदास हैं शामें जरा ठहर के चलो
किसी का हाथ भी थामों जरा ठहर के चलो
यहां हैं बंदिशें बहुत न जाने और क्या क्या हो
रहेंगे कैद भी सूरज , जरा ठहर के चलो
हम आम हैं या खास होंगें कुछ पता ही नहीं
बताए जा रहे हैं क्या जरा ठहर के चलो
इन हवाओं ने हमें कब से छोड़ रख्खा है
कुछ एक देर सही पर जरा ठहर के चलो
अब आस्तीनों मे इतनी जगह कहाँ है 'दीवान'
समाए फिर कोई मंजर जरा ठहर के चलो


कमलेश कुमार दीवान
16/4/21









शुक्रवार, 16 अप्रैल 2021

लाकडाऊन की सुबह

            💐लाकडाऊन की सुबह💐

कितनी शांत नीरव और आने जाने की भाग दौड़ के लिए
तड़फ विहीन होती है आज जाना
शहरों से शोर गायब है, हिरा गया है भरापूरा पन
गांवो से भी किसी ने लील लिया है अपनापन
सड़कें सूनी सूनी सी हैं नदियां अकेली सी
पहाड़ ही यदाकदा सुलग उठते हैं यहां वहां
सब कुछ रिक्त सा है उदास है एक रूआँसा पन समाए हुए है
जैसे अभी अभी निकली हो धरती समुद्र से
एक युग डूबे रहने के बाद
थम गया है सभी कुछ अनायास बर्फ से जमे हुए घर
खिड़कियों से झाँकते बच्चे तक रहे हैं शून्य सुबह से
चिड़िया देख रहीं हैं कहीं तो होंगीं पड़ी हुई
चावल की टूटन कनकियाँ ,पानी का खप्पर मुँडेरों पर
गाए घूम रही हैं घरों घर रोटी मिलने की आश मे
कहीं कुछ भी नहीं हैं दूर दूर तक
तितलियां भौंरे लापता हैं
सुनाई नहीं देती हैं बच्चों की किलकारियां
ये विषाणु फिर रच रहे हैं विनाश किसी नई सृष्टि के लिए
जिसमें नहीं हो सकेंगी लाकडाऊन जैसी सुबह
दोपहर शाम और कर्फ्यू जैसी रातें

कमलेश कुमार दीवान
14/4/21

बुधवार, 10 मार्च 2021

💐पंतंग💐.... दो गजलें

             💐 पंतंग💐

रूख देख हवाओं का उड़ाओगे जब पतंग
छू लेगी आसमान को रह जाए सभी दंग
कोहरा भी बादल भी हैं कौधेंगी बिजुरिया
चरखी के साथ धागा चलाने का आए ढंग
साथी भी अपना हो माझा भी स्वयं का
जब देर तक आकाश में ठहरी रहे पतंग
कागज तो ताव ही हो पिंचीं हो बाँस की
अच्छी बने कमान तो लहरायेगी पतंग
जब भी किसी मकसद से उड़ाएंगे मेहरबां
काटेंगे दूसरों की खुद ही की गिरे पतंग
हम अपनी पतंग को कभी ऐसे न उड़ाएं
पंछी गिरे दो चार और लुट जाएं फिर पतंग
कमलेश कुमार दीवान
17/2/21
       💐पतंग.... 2
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐
कुछ खास से अरमानों को लेकर उड़ी पतंग
कुछ ख्वाहिशो के साथ  मे जीती रही पतंग
उड़ती हुई वो दूर तक पहुंची जरूर थी
बदला हवा का रूख तो उलझती गई पतंग
एक दौर रहा होगा जब त्यौहार थी पतंग
अब दौरे  सियासत का मापन बनी पतंग
ऊँची बहुत गई थी कभी आसमान मे
माँझा बहुत था तेज कटकर गिरी  पतंग
कमलेश कुमार दीवान
18/2/21

शनिवार, 6 मार्च 2021

इसलिए तो....अब हमें चलना ही होगा

                   

                       💐 इसलिए तो ....।।अब हमें चलना ही होगा 💐      
                                                        *कमलेश कुमार दीवान
               अब हमें चलना ही होगा ,कलम लेकर कैमरों के सामने
                थामकर हर हाथों में अखबार अपने 
                बरना ये दुनियाँ हमें जीने नहीं देगी 
               अब हमें चलना ही होगा कलम लेकर कैमरों के सामने।
                हम चले तो चल पड़ेगीं ,कश्तियाँ कागज की भी 
                हम उठे तो जाग उठेंगीं ,बस्तियाँ  जो सो गई थी कभी 
               अब हमें ढलना ही होगा स्याही कागज पेन मे 
               सब उतरना चाहेंगे भी ,इस गंगो-जमुन के चैन में
               अब ये सपने चुभ रहें हैं आस्तीनों में
               आदमी तो हैं हमें झौका मशीनों मे 
              अब निकलना है हमीं को अमन के वास्ते
              अपने ही सर ,सरजमीं और चमन के वास्ते 
              शांति होगी तभी होंगें सहमति के रास्ते
             अब हमें चलना ही होगा कलम लेकर कैमरों के सामने
             थामकर हाथों में अखबार अपने ...अब हमें ।
             क्या तुम्हारी कलम भी गिरफ्तार हो सकती?
             क्या ये आयत बंदिशे हर बार हो सकती?
             क्या तुम्हें लगता नहीं कि ये भी पहरे खत्म हों?
             क्या अमन के वास्ते ये सख्त चेहरे नरम हो ?
             सोचना होगा हमी को हम-वतन के वास्ते
             हम कलम के साथ हो ले हर चमन के वास्ते 
             हाथों में थामों कलम के साथ भी आना जरूरी है
            अन्यथा सर ही कलम होंगें कलम के वास्ते 
             दफन होगें सभी सपने ,न रहेंगे हम ,न होंगे आपके अपने
             इसलिए भी …..अब हमें चलना ही होगा
             कलम लेकर कैमरों के सामने 
             हाथों में थामे हुए अखबार अपने ।

             वतन केवल सरहदों से ही नहीं बनता वतन केवल ओहदों से भी नहीं चलता 
            वतन केवल शाँति से महफूज रहता है वतन केवल 'वतन'  रहने से नहीं चलता
            हम वतन हैं एक प्याले हम निवाले हैं वतन केवल यही कहने से नहीं चलता 
            वतन पर्वत पेड़ नदियां और न ही सरहद वतन दिल से ही दिलो को जोड़ने का बल
            वतन ताकत ही नहीं है प्रेम भी तो है वतन दुःख सुख मे कुशल क्षेम भी तो है
                                       💐2💐
          वतन हम सबका हम ही तो वतन हैं वतन मे अमनो अमन यही तो जतन है
           वतन एक जीवित सदी ,गहरा समुंदर ही वतन ही गुरूद्वार  गिरजा, मस्जिद मंदिर है
           वतन के ही लिए तो तहजीब के  शानी वतन के हर रास्ते,  तजबीज के मानी 
           वतन कागज भर नहीं है आशियाँ है वतन ही तो हम सभी की शिराएँ है
           वतन की अपनी कहानी है वतन की अपनी रवानी है
           वतन केवल ढाई आखर है वतन के भी बड़े मानी है
          वतन एक आकाश सपनों का  वतन एक आभास अपनो का
          वतन सांसे हैं जवानी है  वतन के हर लफ्ज वाणी है
          वतन होगा तो हमारे हम और अपने हैं  वतन से साकार होंगें सपन सबके है
           इसलिए तो …. अब हमें चलना ही होगा कलम लेकर कैमरों के सामने 
          हाथों में थामे हुए अखबार अपने तभी पूरे हो सकेंगे सबके सपने
          वरन् हम होगें कलम सर भी हमारे ही वेवतन उजड़े वतन मे, घर हमारे ही
          अब हमें चलना ही होगा ,अब हमें चलना ही होगा  अब हमें चलना ही होगा।

                                                            
                                                                            ( कमलेश कुमार दीवान)
                                                                                      23/2/2021
      लोकतंत्र ,नागरिकों ,स्वतंत्र लेखक, अखबार और संचार सूचना माध्यमों मे
      कार्यरत सभी  भाई बहनों को मेरी यह रचना सादर समर्पित है ।धन्यवाद