यह ब्लॉग खोजें

शनिवार, 12 मार्च 2022

शाँति और युद्ध

      💐शाँति और युद्ध "

                                 *कमलेश कुमार दीवान

अभी तक शाँत थी दुनिया 

लाखों लोगों के भूख से मर जाने पर 

वह अशांत नहीं हुई जब भी तब लोग 

गरीबी और जहालत से मर रहे थे 

बच्चे ,बूढ़े, जवान नए जोड़े  सबके सब

 विछुड़े ,लुढ़के, काल -कलवित हुए हैं

वायरस की दी मौत से पर 

यह दुनिया चुप ही रही 

यह नीरवता, न बोलने ,मौन साध लेने और

ऊँगलियाँ उठाने से बचने मे पैदा हुआ गहन सन्नाटा

क्रंदन, चीत्कारों को शोर मे दबाएं जाने से 

शाँति महसूस होती है 

परन्तु यह सुलगती धधक कर बुझ सी गई आग 

सूत्रपात होती है क्रांति का आगाज 

दुनिया के सपनों को मार देने 

छीनकर उनकी आजादी बेड़ियाँ पहना देने 

सजाए मौत ,शूली पर चढ़ा देने से

आदमी मरता नहीं है 

वह अपने समय के साथ 

समा जाता है आवाम के दिलो मे

जीता है उनके विचारों , आदतो , संस्कारों में

फिर हम युद्ध क्यों कर रहे हैं?

क्यों बरसा रहे हैं बारूद आसमान से 

ये बारूद अस्र शस्त्र, आयुधों के भंडार 

तुम्हारे मित्र नहीं हैं 

जो आज हो रहा है वह कल भी होगा 

ये सूरज ,घूमती धरती वहती हवाएँ

महासागर की लहरें ,नदियां झरने तालाब 

पर्वत पठार मैदान सब होंगे पर

सृष्टि में वह नहीं जो तुम हो जाना चाहते हो युद्ध 

हमें शाँति चाहिए शाँति शाँति ।

           कमलेश कुमार दीवान 

          12/3/22

सोमवार, 14 फ़रवरी 2022

प्यार .... एक सापेक्ष कविता 💐एक नज्म़

 💐प्यार  --एक सापेक्ष कविता 💐 एक नज्म़

                                    कमलेश कुमार दीवान

प्यार एक ख्वाब है ,तन्हाई है सपनों का सफर
प्यार बस प्यार है रोशनाई है अपनो का असर
प्यार एक दरिया है एक धार है मझधार भी है
प्यार एक कश्ती है तूफान है पतवार भी है
प्यार मंजिल है मुसाफिर है साहिल भी है
प्यार स्वीकार है इंकार है झंकार भी है
प्यार व्यवहार है दरकार भी तकरार भी है
प्यार एक वास्ता एक रास्ता इकरार भी है
प्यार एक प्यास है एहसास है एक आश भी है
प्यार जीवन है एक राग है नैराश्य भी है
प्यार हो जाना है पा जाना है खो जाना भी
प्यार रूसवाई है चलना भी है रूक जाना भी
      प्यार बादल है  वारिस है हरजाई भी
      प्यार सागर है उफान है गहराई भी है
      प्यार तो दिल के खेतों मे ऊग आई फसल
       प्यार वस प्यार है कोई दूसरा संसार नहीं
कमलेश कुमार दीवान
28/8/99

शनिवार, 5 फ़रवरी 2022

बसंत गीत..... कमलेश कुमार दीवान

 💐बसंत गीत💐

                  कमलेश कुमार दीवान

बसंत ....यह क्रम अनंत आया है

अब बसंत आया है ।
पीली चूनर ओढ़े फूल खिल खिला रहें हैं
आम्र बौर लद रहें हैं ,खेत फिर बुला रहे हैं
नभ की ओर उठ गई हैं डालियां पसारे पात
निखर निखर खिर रहे हैं वृक्ष फूल पारिजात
वन वन आनंद छाया है ,यह क्रम अनंत आया है
अब बसंत आया है ........
खिल उठी लताएँ भी मौन हम भी क्यों रहें
तुम भी गीत गाओं और कुछ कथाएँ हम कहें
सृष्टि का यह क्रम अनंत फैल रहा दिग दिगंत
आया छाया बसंत मन न जाए ,भरमाएँ ये अंत
हम सबको भाया है  .....
अब बसंत आया है ,अब बसंत आया है ।
कमलेश कुमार दीवान
17/2/21

गुरुवार, 3 फ़रवरी 2022

माँ 💐माँ को समर्पित रचना

              💐माँ💐

                                    कमलेश कुमार दीवान

तुम सा क्या हो पाना , तो एक नदी सी हो माँ
जीवन पथ पहाड़ जैसे हैं,घने सघन वन प्रांतर मन
सृष्टि सृजन पालन पोषण,मोह पाश भव के बंधन
चली जहां से फिर वैसे भी ,यहीं  किनारे बहना हैं
कष्ट सहे दुख झेले कितने , उन्हीं सहारे रहना है
आँगन आँगन एक ढिठोना, तुम संसार सदी सी हो मां।
तुम सा क्या हो पाना है माँ ,तुम तो एक नदी सी हो माँ।
निर्मल पावन झर झर झरने ,द्वीप  देश द्वारे दर दर
तुमने जिया अकेले जीवन बाकी के तो सब हर घर
मिलने मे विशाल सागर सी ,ऊँचे मे  आकाश लगी
घर घर की संजीवनी बगिया ,जैसे खड़ी हिमालय सी
तुम तारा हो आसमान  भी, तुम ही सप्त्ऋषि सी हो माँ
तुम सा क्या हो आना है माँ ,तुम तो एक नदी सी हो माँ।

कमलेश कुमार दीवान
1/2/22





बुधवार, 2 फ़रवरी 2022

बेटियों को याद कर ...गजल

            💐बेटियों को याद कर💐

                                         कमलेश कुमार दीवान

हम चले आए यहां  बेटियों को याद कर
बहुत लहराए हवा में, बेटियों को याद कर
क्या करें इस देश में भी हो रहे परदेशी हम
कैसे बिसराए जहाँ में , बेटियों को याद कर
हमने ये पाया नया सब, पर पुराना भी वहां
ऐसे बतियाएँ वहां पर ,बेटियों को याद कर
अब हमारा जिन्दगी जीने का मकसद भी यही
हर समय उत्सव मनाएं ,बेटियों को याद कर
वो बहुत हैं दूर ,जाना भी कठिन उनके यहां
बात कर आँसू - बहाएँ ,बेटियों को याद कर
तुम कहाँ उलझे हुए हैं 'याद में ऐसे   दीवान '
गीत लिख लें गुनगुनाएंँ  , बेटियों को याद कर
कमलेश कुमार दीवान
31/1/22

शनिवार, 8 जनवरी 2022

गजल ... हमने खुशबू से कहा

       " हमने खुशबू से"

हमने खुशबू से कहा छोड़ हवा का दामन

वो लरजती रही सकुचाई भी शरमाई भी

उसने तूफान के संग साथ ही रहना चाहा

बाग में तितलियों भंवरों की याद आई भी

फूल से था तो बहुत पास का गहरा रिश्ता

बागवां खामोश हुआ तो पाई तन्हाई भी

अभी सूखी हुई है शाख और उड़े हुए हैं रंग

जो बिखरती रही हूं साथ ले आशनाई भी

वो तो चुप हो गए देकर मुझे खूशबू 'दीवान'

जो सिमटती रही ग़ज़लों से और रूबाई में भी

कमलेश कुमार दीवान

27/12/21