यह ब्लॉग खोजें

शुक्रवार, 13 जनवरी 2023

पतंग -3

  💐पतंग💐

                             *कमलेश कुमार दीवान*
कुछ खास है अरमां, जिन्हें लेकर उड़े पतंग
ख्वाहिश हवा के हाथ मे देकर उड़े पतंग
देखो उसे आकाश में पहुँची है बहुत दूर
बदला हवा ने रूख तो फिरकर उड़े पतंग
पहले तो संग साथ का त्यौहार था यही
इस दौर ए सियासत मे क्यों कर उड़े पतंग
ऊपर गई इतराई भी लहराई संग साथ 
खुशियाँ बनी हैं सपने संजोकर उड़े पतंग
माँजा हैं बहुत तेज दांव पेंच हैं  'दीवान'
जाने दो ऊंची और जी भरकर उड़े पतंग
कमलेश कुमार दीवान 
10/1/23

शनिवार, 7 जनवरी 2023

इन हवाओं से

 इन हवाओं से बुझते नहीं होंगे वे चिराग़

जिनको तूफ़ानों के संग साथ जलाया होगा

जिसने दरिया को धकेला है समुंदर की तरफ़

लौट कर वो ही फिर बादलों में समाया होगा

हर दराजों से झिरा, नदियों से ओझल भी हुआ

आसमां छू छू के पहाड़ों पे फिर छाया होगा

तेज थी धूप वारिश भी तो बार बार हुई 

हमने तो निकले ही थे कि तुमने बुलाया  होगा

इन फिजाओं से कोई पूछता ही कब है दीवान 

जिनके आने से कोई साथ साथ घर आया होगा 

कमलेश कुमार दीवान

17/12/20

रविवार, 1 जनवरी 2023

A Gift of Dawn.........New year 2023

 "A Gift of Dawn....New Year 2023

                                   Kamlesh Kumar Diwan

 May there be new year, may there be joy, may there be new happiness, may there be new prosperity

 New dawn, new evening, new destination

 New goals, new spirits, new directions

 New moon, stars, weather, new vision, new book

 The new river is the New boat ⛵

 the New mood and the New dreams

 New ways, new journey, meaning that you are looking for

 Let this be the gift of the morning.

A Gift of Dawn .

Happy New year 🎉💐 2023

 Kamlesh Kumar Diwan